राजस्थान रै रूळियार राज रौ देखो खेल!

राजस्थान रै रूळियार राज रौ देखो खेल!

राजस्थान री सरकार रै षिक्षा मंत्री मास्टर भंवरलाल रौ आज रै अखबारां में छपियौ बयान कै ‘‘हिन्दी राजस्थान की मातृ भासा है’’। इण बयान सूं साफ लखाव व्है कै राजस्थान रै षिखा मंत्री नैं इण बात रौ इज लखाव कोनी कै उण री मायड़ भासा कांई है अर ओ मिनख आप रै नांव रै आगे मास्टर सबद औरूं लगावै जिकौ मास्टर सबद नैं भी लाजां मारण वाळो है। कोई भंवरलाल सूं पूछै कै थारै घर री धरयाणी, थारी मां अर बाप आ भासा बोल सकै। कांई थांरी मां थनै हिन्दी में ही हालरिया हुलराया हा। वाह रै भंवरलाल थूं तो सफां ई गत गमाय दी। थूं नांव रै आगे मास्टर सबद लगावै नण नैं भी लाजां मारद्यौ। ठा नीं थारै पढायोड़ा टाबर भी किसाक भण्या हुसी।
    थूं तो राजनीति रौ कक्को सीख’र मंत्री कांई बणग्यो मायड़ भासा नैं ई भूलग्यौ, मां सबद नै भी लाजां मार दियौ। इतिहास कदैई माफ नीं करैला। राजस्थान रा मुख्यमंत्री री अकल सरावौ कै मायड़ भासा रौ माण गमावणियै नैं षिक्षा मंत्री कांई जाण नैं गमायौ। कांई करै बापड़ो गहलोत उण नैं कोटे रै हिसाब सूं मंत्री बणावणो पड़ियो, क्यूंकै ओ रोळराज बिना कोटे रै नीं चालै।
    जदि राजस्थान रै मुख्यमंत्री में थोड़ी सी सरम भी बाकी है तो वांनै चाईजै कै इसै मंत्री नैं हाथूंहाथ मंत्रीमंडल सूं बारै काढै।  जिकौ मुख्मंत्री राजस्थान री विधान सभा सूं राजस्थानी भासा नैं संविधान री आठवी सूचि में भेळण रौ प्रस्ताव सरब सम्मति सूं पारित करायो हो जद वांरौ षिक्षा मंत्री इण भासा रौ माण कम करण रौ काम क्यूं कर रैयो है। जद सगळा लोग आ जाणै कै हिन्दी राजस्थान प्रदेस री राज भासा है अर राजस्थानी लोगां पर भारत री सरकार माडाणी थरपी है। राजस्थानी अठै रै लोगां री मायड़ भासा है अर उण री मानता नैं लेय’र आंदोलन चाल रैयो है तो षिक्षा मंत्री रौ बयान आग में घी घालण रो ईज काम करैला। जय राजस्थान जय राजस्थानी।
विनोद सारस्वत (बीकानेर)

1 टिप्पणी:

  1. wa bhai, wa motyaro!
    jev soro kar diyo!jordar sabdan me bakaryo hai shiksha mantri ji ne.
    shiksha mantri ji re byan syun aag to saglan re kalje me e lagi hai.ban ri maa,bhai,beli aad saglan tadeed liya hola.pan dhyan rakho ke aapni mayad bhasha manda sabad bapravan ri shiksha to ni deve!khair,aap motyar ho ar motyaran me aag bessi e huve.huvani bhi chaije.jad ma ne koi gal kade to taabriya aankh ni kade to kun kade?
    pan aa hoons blogdan soon sadakan mathe aavni chaije.
    motyaro jago!aaj mayad kalpti hella mare.un ro e mhobi beto aankh kadhe.aaj chookgya to ma ro doodh laje lo!shiksha mantri ji ne samjhao ke prathmik shiksha mayd bhasha me devan saru kini bhasha ro kendr ri aathvin anusuchi me hovno koi jaroori koni.hovni to aa chijti ke shiksha mantri ji aage badh kevnta ke"rajsthan ki prathmik shiksha rajasthani me hogi kyon ki rajasthani ko manyta prastav vidhan sabha me dhvanimat se parit kiya huva hai.hame manyta ki darkar nahin hai." in bayan re bad shisha mantri ji poojeejta.hero ban javnta samule rajasthan ra.

    उत्तर देंहटाएं

आपरा विचार अठै मांडो सा....